Ticker

6/recent/ticker-posts

ट्रेडिंग क्या है? शेयर बाजार (Share Market) में ट्रेड कैसे करते है |

ट्रेडिंग क्या है शेयर बाजार (Share Market) में ट्रेड कैसे करते है


ट्रेडिंग क्या है? शेयर बाजार में ट्रेडिंग कैसे होती है। आसान भाषा में बताएं तो शेयर को खरीदना और बेचना ट्रेडिंग कहलाता है।यदि आपको शेयर मार्केट में इन्वेस्ट या ट्रेड करना है। तो आपको स्टॉक ब्रोकर के पास अपना एक डिमैट अकाउंट और ट्रेडिंग एकाउंट खुलवाना होता है। जहां पर ब्रोकरेज चार्ज बहुत ही कम होते हैं। और डिलीवरी चार्ज तो एकदम जीरो होते हैं। यह एकाउंट खुलने के बाद ही आप शेयर बाजार या स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट या ट्रेड कर सकते हैं।

ट्रेडिंग कैसे होती है

लेकिन इसके पहले हमें यह समझ लेना बहुत जरूरी है, कि शेयर बाजार में ट्रेडिंग कैसे होती है। इसके लिए हमें शेयर मार्केट से जुड़ी हिस्ट्री समझनी होगी। कि पहले के जमाने में शेयर मार्केट या स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग या इन्वेस्ट कैसे होती थी? जब इंटरनेट नहीं था, तब शेयर के खरीददार और विक्रेता स्टॉक एक्सचेंज पर जाकर फिजिकली अपने शेयर खरीदते या बेचते थे। जो शेयर के खरीदार होते थे। वह पैसा लेकर स्टॉक एक्सचेंज जाते थे, और जो शेयर धारक होते थे, वह अपने शेयर बेचने संबंधित पेपर लेकर स्टॉक एक्सचेंज जाते थे।

पहले ट्रेडिंग कैसे होती थी

पहले यदि किसी को अपने शेयर बेचने होते थे। तो स्टॉक एक्सचेंज पर जाकर वहां बाजारों या मंडियों की तरह ही मोल-भाव हुआ करता था। जैसे आजकल हम बाजारों में किसी चीज को खरीदने के लिए मोलभाव करते हैं। हालांकि स्टॉक एक्सचेंज पर शेयर के खरीददार ज्यादा हुआ करते थे, और वहां पर शेयर की बोली लगाई जाती थी। जाहिर है इस पूरे प्रोसीजर में बहुत ही ज्यादा समय और पैसा खर्च होता था।

अब ट्रेडिंग कैसे होती है

लेकिन अब समय बदल चुका है अब सारा कुछ ऑनलाइन आ चुका है। ऐसे में ना तो आपको स्टॉक एक्सचेंज जाने की झंझट होती है। और ना ही खरीदार या बेचने वाले को ढूंढने की प्रॉब्लम। अब इनकी जगह ऑनलाइन स्टॉक ब्रोकर ने ले ली है। और इनके द्वारा ही अब ऑनलाइन ही डीमेट एकाउंट या ट्रेडिंग एकाउंट आसानी से खुलवा सकते हैं। आप सीधे स्टॉक एक्सचेंज से शेयर का लेन देन नहीं कर सकते।  आपको ऑनलाइन स्टॉक ब्रोकर के जरिये ही शेयर ही खरीददारी और बिक्री करनी होती है। आप इसे शेयर बाजार की मंडी समझ सकते हैं। जहां पर शेयर के खरीददार और बिक्रेता दोनों मौजूद होते हैं। 

पहले के समय में शेयर के खरीददारों के पास हाथ में पैसा हुआ करता था, लेकिन अब जब सारा कुछ ऑनलाइन आ गया है। तो ऐसे में पैसा भी अब जेब की बजाय बजाएं ट्रेडिंग अकाउंट में रखना होता है। ठीक वैसा ही शेयर धारक के पास भी उनके शेयर अब किसी कागज में नहीं, बल्कि डीमेट अकाउंट में हुआ करते हैं। इसलिए यदि आप भी शेयर बाजार में आकर ट्रेड या इन्वेस्ट करने चाहते हैं तो आपको भी एक अच्छा ऑनलाइन स्टॉक ब्रोकर की जरूरत पड़ेगी।

यह भी पढ़ें : शेयर बाजार क्या होता है? स्टॉक मार्केट से जुड़े 8 सवाल जो डराते है

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ