दी लल्लनटॉप बना दुनिया का पहला डिजिटल फर्स्ट न्यूज़ ब्रांड

दी लल्लनटॉप बना दुनिया का पहला डिजिटल फर्स्ट न्यूज़ ब्रांड

Share on facebook
Share on google
Share on twitter
Share on whatsapp

अपने जुदा तेवर, जुदा कलेवर के लिए मशहूर डिजिटल फर्स्ट न्यूज़ ब्रांड ‘दी लल्लनटॉप’ के यूट्यूब पर एक करोड़ सब्सक्राइबर हो गए हैं.
‘दी लल्लनटॉप’ दुनिया का पहला डिजिटल फर्स्ट न्यूज़ ब्रांड है जिसके 10 मिलियन सब्सक्राइबर हो गए हैं (सोर्स: विडूली रिपोर्ट, टॉप 10 डिजिटल फर्स्ट ऑरिजिनल न्यूज़ चैनल्स ऑन यूट्यूब). 4 जनवरी 2018 को 10 लाख सब्सक्राइबर्स होने के बाद एक करोड़ तक पहुंचने में ‘दी लल्लनटॉप’ को सिर्फ 22 महीने लगे.सब्सक्राइबर्स के मामले में ‘दी लल्लनटॉप’ ने देश-विदेश के बहुत से बड़े नामों को पीछे छोड़ दिया है.
क्या है ‘दी लल्लनटॉप’ की ख़ासियतें?
‘दी लल्लनटॉप’ की सबसे बड़ी यूएसपी इसका यूज़र कनेक्ट है. बेहद आसान, दोस्ताना भाषा में जटिल से जटिल विषय समझाने की कला ने ‘दी लल्लनटॉप’ को बहुत कम समय में बेशुमार मकबूल बनाया. ख़बरों को क्लिष्ट भाषा से मुक्त करते हुए सहज, सिंपल अंदाज़ में पेश करने की ज़िद को दर्शकों ने खूब सराहा. फ़रवरी 2017 में उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव हुए. इनमें पहली बार ‘दी लल्लनटॉप’ ने ग्राउंड रिपोर्टिंग की. ये डिजिटल न्यूज़ की दुनिया में एक क्रांतिकारी कदम था. जनता के बीच पहुंचकर सीधे लाइव दिखाना एक अभिनव प्रयोग था. जनता का रॉ इमोशन दर्शकों तक बिना किसी कांट-छांट के पहुंच रहा था. दर्शकों ने ऐसी पत्रकारिता को हाथोहाथ लिया. उसके बाद इस फॉर्मेट की बहुतों ने नक़ल भी करनी शुरू कर दी. यूपी चुनावों के बाद गुजरात और हिमाचल के चुनावों ने ‘दी लल्लनटॉप’ की चुनावी रिपोर्टिंग वाली विश्वसनीयता पूरी तरह स्थापित कर दी. चुनावी कवरेज यानी ‘दी लल्लनटॉप’ जैसा समीकरण बन गया. लोकसभा चुनावों में ‘दी लल्लनटॉप’ ने आधे से ज़्यादा भारत कवर किया.
‘दी लल्लनटॉप’ देश का इकलौता न्यूज़ पोर्टल है जिसके प्रोग्राम टीवी पर भी आते हैं. तेज़ चैनल पर ‘दी लल्लनटॉप’ के दो प्रोग्राम आते हैं.
दी लल्लनटॉप शो – सोमवार से शुक्रवार, रात नौ बजे
दी लल्लनटॉप क्विज़ शो – शनिवार, रात नौ बजे
‘दी लल्लनटॉप’ के हर वीडियो को औसतन 2.2 लाख व्यूज़ मिलते हैं यूट्यूब पर. इस आधार पर देखें तो कोई हिंदी न्यूज चैनल इस आंकड़े के आसपास भी नहीं है. लगभग हर हफ्ते ‘दी लल्लनटॉप’ का कोई न कोई वीडियो इंडिया में ट्रेंड कर रहा होता है. ‘दी लल्लनटॉप शो’ का दर्शक इंतज़ार करते हैं और भरोसा करते हैं कि किसी भी विषय पर प्रामाणिक, तथ्यसहित जानकारी उन्हें ‘दी लल्लनटॉप’ पर मिलेगी ही मिलेगी.

 क्या मिलता है ‘दी लल्लनटॉप’ पर?

दिन भर न्यूज देखने के बाद भी जो न समझ में आए वो समझाता है दी लल्लनटॉप. एकदम आसान भाषा में. जनता की बोली में, जनता के लहजे में. ताकि दूर गांव में बैठी अम्मा को भी समझ में आए कि देश दुनिया में क्या चल रहा है? ‘दी लल्लनटॉप’ के कुछ बेहद पॉपुलर सेगमेंट्स ये हैं:

– ‘पॉलिटिकल किस्से’. इतिहास के तहखाने से खोजकर लाए जाते हैं दिलचस्प किस्से. रोचक अंदाज़ में. अवॉर्ड विनिंग सीरीज.
– अफवाहों, फर्जी और भ्रामक खबरों के लिए ‘दी लल्लनटॉप’ करवाता है ‘पड़ताल’. जहां तमाम वायरल कंटेंट का फैक्ट चेक होता है.
– हमारी सबसे अच्छी दोस्त है किताब और ‘दी लल्लनटॉप’ अपने दोस्तों के लिए लेकर आता है ‘किताब वाला’. जहां लेखकों से मन भर गुफ़्तगू होती है.
– ‘साइंसकारी’ में विज्ञान समझाते हैं. बिल्कुल ऐसी भाषा में जो बालक से लेकर बड़की बुआ तक सबकी समझ में आ जाए.
– ‘नेता नगरी’ भी आता है हर हफ्ते. जिसमें हफ्ते की तमाम राजनीतिक उठापटक को रिव्यू कर लिया जाता है. राजदीप सरदेसाई के साथ. लोग इंतज़ार करते हैं इसका.
– ‘अर्थात’ में अर्थ यानी रुपिए-पैसे से जुड़ी तमाम जानकारिया सरल शब्दों में पहुंचाते हैं. सरकार की नई नीतियों से लेकर बैंकों के लफड़ों तक सबकुछ.
– ‘दी लल्लनटॉप’ का ‘आसान भाषा में’ सेगमेंट बहुत सी कठिन चीज़ों को सरल भाषा में समझाता है. फिर चाहे सेंसेक्स की एबीसीडी हो या क्रिकेट में बॉल स्पिन होने का गणित.

Share on facebook
Share on google
Share on twitter
Share on whatsapp